• A-
  • A
  • A+

ब्रह्माकुमारीज संस्था की पूर्व मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी प्रकाशमणि ने नारी शक्ति के लिए प्रेरणास्रोत थी।

ब्रह्माकुमारीज संस्था की पूर्व मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी प्रकाशमणि ने नारी शक्ति के लिए प्रेरणास्रोत थी। उक्त उदगार ब्रह्माकुमारीज संस्था की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी ने व्यक्त किये। वे दादी की दसवीं पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा को सम्बोधित कर रही थी। दादी प्रकाशमणि ने हमेशा अपना जीवन में मानवता की सेवा में लगा दिया।

कार्यक्रम में संस्था के महासचिव बीके निर्वेर तथा कार्यक्रम प्रबन्धिका बीके मुन्नी ने कहा कि दादी के कर्म हर मनुष्य के लिए लाईट हाउस की भांति था। प्रात: काल से मौन साधना के प्रश्चात हजारो लोगों ने कतार बद्ध होकर दादी के समाधि स्थल प्रकाश स्तम्भ पर मौन रहकर श्रद्धांजलि दी। इसके साथ ही विश्व बन्धुत्व के लिए कामना की। दादी की पुण्य तिथि को देश कोने कोने में सेवाकेन्द्रों के जरिये विश्व बन्धुत्व दिवस के रूप में मनाया गया। जिसके तहत हजारों कार्यक्रम आयेाजित किये गये।