viagra pas cher
  • A-
  • A
  • A+

हर दिन दिवाली मनाएँ

जीवन के दो ऐसे भाव हैंए जो हर चीज प्राप्त करने के लिए पर्याप्त हैं। इनके बिना सफल होना लगभग असंभव है। क्या आप जानते हैं वे कौन से गुण हैं  हैं उम्मीद और विश्वास!


जी हाँ उम्मीद ही वह शक्ति हैए जो इंसान को नकारात्मक स्थिति में भी धीरज रखना सीखाती है और विश्वास वह ऊर्जा हैए जो इंसान के जीवन में सफलता आकर्षित करती है। फिर चाहे वह अच्छा स्वास्थ्य होण्ण्ण् दौलत होण्ण्ण् मन की शांति होण्ण्ण् मधुर रिश्ते हों या मोक्षण्ण्ण्। भौतिक और आध्यात्मिक सफलता का सारसूत्र हैए ष्उम्मीद और विश्वासष्। एक ही सिक्के के ये दो पहलू स्वास्थ्य प्राप्ति की दवा और मुक्ति का दावा भी हैं।


अगर आपको आनंद की चरमसीमा छूनी हैण्ण्ण् अपनी सभी संभावनाएँ खोलनी हैं और हर रोज़ दिवाली मनानी है तो उम्मीद के दीए से हर दिन विश्वास की दिवाली मनाएँ। क्योंकि उम्मीद वक्त का सबसे बड़ा सहारा हैए है उम्मीद तो हर लहर किनारा है। आपकी हर समस्या को मिटानेवालाए हर समस्यारूपी लहर को किनारा देनेवाले भाव हैं. ष्उम्मीद और विश्वास।


उम्मीद रखते ही आपके मन में विश्वास जाग्रत होता हैए विश्वास से उम्मीद और बढ़ने लगती है। आपने इस बात का बचपन में कई बार अनुभव किया होगा। याद कीजिए वह दिन जब आपके इम्तिहान चलते थे। मानोए आपको गणित और साइन्स विषय की पढ़ाई बहुत कठिन लगती थी। ष्मैं फेल तो नहीं हो जाऊँगाण्ण्ण् मुझे गणित में कितने माक्र्स मिलेंगेघ्ष् ऐसी चिंता आपको सताती थी मगर उतने में कोई ऐसा इंसान आपकी सहायता के लिए आता थाए जो आपको कम से कम समय में गणित के फॉर्मूला कंठस्थ करने का रहस्य बताता था। कई बार वह इंसान आपका बड़ा भाईए आपके माता.पिताए कोई टीचर या आपका दोस्त था। एक बात तो निश्चित है कि कठिन फॉर्मूला कंठस्थ करने का रहस्य जानकर इम्तिहान के एक दिन पहले आपके मन में अच्छे नंबरों से पास होने की उम्मीद जगती थी।जिससे आपका विश्वास और भी दृढ़ हो जाता था और आप बड़े आत्मविश्वास से इम्तिहान देते थे। इसी विश्वास के कारण आपमें साइन्स में भी अच्छे माक्र्स पाने की उम्मीद प्रबल हो जाती थी। आप लगातारए बिना थकेए बिना रुके पढ़ाई करते थे और परिणाम आपको साफ मालूम थे। आप दोनों कठिन विषयों में अच्छे अंक प्राप्त करते थे।


इस घटना पर गौर करें क्योंकि आपके जीवन में लगातार यह सिलसिला शुरू है। गणित का इम्तिहान देने से पहले आप अंदर से डरे हुए थे। मगर उम्मीद जगते ही आपने आत्मविश्वास के साथ समस्या का सामना किया। इसी विश्वास ने आपकी उम्मीद और बढ़ाई। इसलिए हमेशा याद रखेंए ष्उम्मीद रखने से विश्वास टिकता है और विश्वास टिकते ही उम्मीद और बढ़ जाती है।


जीवन के इम्तिहान में भी इंसान को कई घटनाओं काए समस्याओं का सामना करना पड़ता है। एक इम्तिहान होते ही दूसरी कठिन समस्या उसका इंतज़ार करती है। कभी बीमारियों की वजह से इंसान परेशान हो जाता है तो कई बार मनमुताबिक घटना न होने पर नाराज़ होता है। आर्थिक समस्याएँ उसे अशांत एवं अस्वस्थ बनाती हैं या कभी पारिवारिक समस्याएँ उसका जीवन बंजर भूमी की तरह बनाती है। अंतिम सत्य प्राप्त करनेवाला खोजी भी ष्मुझे सत्य कब प्राप्त होगाघ् मुझे आत्मसाक्षात्कार कब होगाघ्ष् इस सवाल को लेकर नाराज़ हो सकता है। मगर नाराज़ए क्या जानेगा राज़घ् ना.राज इंसान सफलता का राज़ कभी जान ही नहीं सकता क्योंकि सफलता प्राप्ति का पहला पायदान हैए ष्उम्मीदष्। मृत्यु से जूझ रहा इंसान भी पुनः जीवन प्राप्त कर सकता हैए अगर उसके मन में जीने की उम्मीद जगी है तो।


विश्व की तमाम सफलताओं का सार उम्मीद और विश्वास ही है। अगर आपके मन में उम्मीद है तो आपको अंधेरे में भी प्रकाश की किरण दिखाई देगी। जहाँ विश्वास का अस्तिŸव हैए वहाँ साक्षात् स्वर्ग का निर्माण हो सकता है और जहाँ विश्वास नहीं हैए वहाँ केवल दुःखद भावना का ही वास होता है। जो पूर्ण रूप से विश्वास रख पाते हैंए वे सकारात्मक ऊर्जा और पूर्णता की भावना से लबालब भर जाते हैं। वे प्रेमए आनंदए शांतिए समृद्धिए परमसंतु िजैसे दिव्य गुणों की वर्षा में भीग जाते हैं और उनका पृथ्वी पर आने का उद्देश्य भी सफल हो जाता है। क्योंकि शारीरिकए मानसिकए सामाजिकए आर्थिक और आध्यात्मिक जीवन के सभी स्तरों पर यह नियम सक्रिय है. ष्उम्म्मीद रखने से विश्वास बढ़ता है और विश्वास रखने से ही आपको परिणाम प्राप्त होते हैं।ष्
सुबह उठते ही आपके मन ने कहाए ष्आज वातावरण बहुत खराब है। आज बहुत थकावट और सुस्ती महसूस हो रही है।ष् अब यदि यह विश्वास आपके अंतर्मन में पक्का हुआ है तो ज़ाहिर सी बात है कि आज आप पूरे दिन थकावट और सुस्ती ही महसूस करेंगे। हालाँकि वातावरण खराब होने के बावजूद भी अन्य लोगों का दिन बहुत ही तरोताज़ा और उत्साह से भरा होगा। मगर केवल आपका ही दिन इसलिए खराब गया क्योंकि आपके अंदर वैसा विश्वास निर्माण हुआ। इसी विश्वास ने आपके अंदर सुस्ती और थकावट की भावना जगाई। अन्य लोगों के अंदर जैसा विश्वास थाए वैसी भावना उन्होंने महसूस की।
यह नियम बहुत ही सरल है। यदि आपके अंदर यह विश्वास है कि आपके जीवन में स्वास्थ्य आ सकता है तो ही आप अपने आपको स्वस्थ महसूस करेंगे। अगर आपके अंदर अमीर बनने का विश्वास है तो आप समृद्धि और प्रचुरता की भावना महसूस कर सकते हैं। अगर आपके अंदर सफल होने का विश्वास है तो ही आपके मन में सफलता की भावना निर्माण होगी। इतना ही नहींए अगर आपके अंदर मोक्ष प्राप्ति का विश्वास है तो ही आपके मन में मुक्ति की भावना तैयार होगी।


सुबह उठते ही अखबारों में होनेवाली नकारात्मक खबरें पढ़कर ष्विश्व में कभी शांति आ ही नहीं सकतीष्ए इस बात पर कुछ लोग विश्वास रखते हैं और स्वयं के अंदर ष्अशांति की भावनाष् महसूस करते हैं। वहीं दूसरी ओर कुछ लोग ष्आज मुझसे दिनभर में बड़े काम होनेवाले हैंष् यह विश्वास रखकर ष्उत्साह और ताज़गी की भावनाष् महसूस करते हैं। ष्लोग मेरी मदद नहीं करतेष् ऐसा विश्वास रखकर कुछ लोग ष्असहयोगष् की भावना महसूस करते हैं तो कुछ लोग ष्मेरे जीवन में सच्चे और अच्छे लोग हैंष्ए इस विश्वास से ष्सहयोगष् की भावना महसूस करते हैं। ष्पैसा कमाना बहुत कठिन हैष् इस विश्वास में जीनेवाला इंसान हमेशा ष्अभावष् की भावना महसूस करता हैए वहीं दूसरी ओर ष्मेरे जीवन में सब कुछ भरपूर हैष्ए यह विश्वास इंसान के अंदर ष्भरपूरताष् का भाव जगाता है।


किसी के अंदर यह विश्वास होता है कि ष्इस जन्म में मोक्ष मिलना असंभव हैैष् ऐसे लोग ष्बंधनष् की भावना में जीते हैं तो कुछ लोगों के अंदर अपने गुरुए ईश्वर और कुदरत के प्रति दृढ़ विश्वास होता है इसलिए वे ष्आज़ादीष् के भाव में ही जीवन जीते हैं।


कहने का अर्थ हर इंसान किसी न किसी बात की उम्मीद करता है और किसी न किसी बात पर ष्विश्वासष् रखकरए वैसी ही भावना का निर्माण कर रहा है। इस पृथ्वी पर हर इंसान का जीवन अलग है क्योंकि हर इंसान के अंदर होनेवाला विश्वास अलग है।


सफल होना किसी के लिए बहुत सहज है तो किसी के लिए यह बहुत कठिन और दुःखद है क्योंकि दोनों के अंदर का विश्वास अलग है। भगवान बुद्धए भगवान महावीरए संत ज्ञानेश्वरए संत तुकाराम जैसे आध्यात्मिक महापुरुष होंए महात्मा गांधीए नेल्सन मंडेला जैसे लीडर्स हों या मदर तेरेसा जैसी संतए हर महान व्यक्तित्वने पहले परम सफलता ;ईश्वरद्ध पर विश्वास रखा और उसी भावना में रहते हुए महान कार्य किए। उन सभी के जीवन की नींव थीए ष्उम्मीद और विश्वास।


तो क्या आप भी अपने जीवन में खुलकरए खिलकर जीना चाहते हैंघ् क्या आप सच्ची दिवाली मनाना चाहते हैंघ् दिवाली मनाने का अर्थ केवल पटाखों स्वादि व्यंजनों और छुट्टियों के मज़ों तक सीमित न रहें। असल दिवाली तो आपके अंदर मनाई जा सकती है। जब आपके अंदर उम्मीद का दीया हमेशा जलता रहता हैए जब आप विश्वास का उत्सव मनाते हैं तब जीवन का हर क्षण दिवाली बन सकता है। आप ऐसी दिलवाली ;हृदय से निकलनेवाले आनंद कीद्ध दिवाली मना पाएँए इसी शुभेच्छा के साथए हॅपी दिवालीए हॅपी थॉट्स!